जब बाहर की सारी दौड़ व्यर्थ हो जाती है, तो अंतस में जाने का प्रश्न और विचार और जिज्ञासा खड़ी होती है।

🎆🎆साक्षी की साधना-ओशो(प्रवचन-12)🎆🎆 ****************** (ओशो को भोगवादी कहने वालों को इस पोस्ट से उचित समाधान मिलेगा ) पूछा है: सत्य के खोजने की आवश्यकता ही क्या है? साधना की जरूरत Continue Reading →

सुसाइड की जरुरत नहीं, संन्यास लो !” – ओशो

“सुसाइड की जरुरत नहीं, संन्यास लो !” – ओशो एक शिष्य ने ओशो से कहा की वह जिंदगी से तंग आ कर आत्महत्या करना चाहता है, इस पर ओशो बोले Continue Reading →

जब हम लेट जाते हैं तो शरीर ही नहीं लेटता – उसके साथ अहंकार भी लेट जाता है।

🔴शवासन की खूबी क्या है ? शवासन का अर्थ है पूर्ण समर्पित शरीर की दशा, जब आपने शरीर को बिलकुल छोड दिया। पूरा रिलेक्स छोड़ दिया। जैसे ही आप शरीर Continue Reading →

यदि तुम हंस सको तो तुम्हारी सारी उदासी, सारा विषाद, सारा डिप्रेशन गायब हो जाएगा

🌺🌻🌺 तुम परमात्मा हो 🌺🌻🌺 डिप्रेशन से ग्रस्त व्यक्ति एक बड़े डाक्टर के पास गया | डाक्टर ने उसकी जांच की और पाया कि उसे कुछ भी नहीं है | Continue Reading →

मन का स्वभाव क्या है ?

मन है विचार की प्रक्रिया। मन कोई यंत्र नहीं है। मन कोई वस्तु नहीं है। मन एक प्रवाह है। मन को अगर हम ठीक से समझें तो मन कहना ठीक Continue Reading →

“स्व – केंद्र्रित ” भी सोच रोग का कारण हो सकता है

बौद्ध ग्रन्थों व कथा में एक दृष्टान्त आता है ,जो हमें कुंठा मुक्त होने की कला सिखाता है ,बात उस समय की है ,जब एक बार गौतम बुद्ध अपने किसी Continue Reading →

जिसकी मर्जी से मौत होती है, उसी की मर्जी से जीवन होता है …………

टालस्टाय ने एक छोटी सी कहानी लिखी है। मृत्यु के देवता ने अपने एक दूत को भेजा पृथ्वी पर। एक स्त्री मर गयी थी, उसकी आत्मा को लाना था। देवदूत Continue Reading →

स्वस्‍थ रहने के लिए गहरी सांस जरूरी ……

1/8 जब तक हमारी सांसें चलेंगी, तब तक हम जिंदा रह सकते हैं। यह तो हम सभी जानते हैं, लेकिन इससे भी महत्वपूर्ण यह बात है कि आप सांस लेते Continue Reading →

प्रतिक्रमण बहुत उपयोगी है, खासकर उनके लिए जिन्हें अनिद्रा की तकलीफ हो

कुछ भी ध्यान बन सकता है – “नींद” प्रतिक्रमण – सजग नींद में प्रवेश करवाने वाली विधि। “रात में जब तुम सोने लगो, गहरी नींद में उतरने लगो तो पूरे Continue Reading →