बच्चों को बदलना हो तो खुद को बदलना जरूरी है। अगर बच्चों से प्रेम हो तो खुद को बदल लेना एकदम जरूरी है।

🔴*****बच्चे और मां-बाप***** बच्चों पर भूल कर भी दबाव मत डालना, भूल कर भी जबरदस्ती मत करना, भूल कर भी हिंसा मत करना। बहुत प्रेम से, बहुत शांति से, बहुत Continue Reading →

अंधकार पर किया जानेवाला ध्‍यान तुम्‍हारे सारे पागलपन को पी जायेगा।

सिर्फ जापन में इस दिशा में इस कुछ प्रयास किया है। वे अपने पागल लोगों के साथ बिलकुल भिन्‍न व्‍यवहार करते है। यदि कोई व्‍यक्‍ति पागल हो जाता है विक्षिप्‍त Continue Reading →

अगर किसी के बारे में अच्छा सोचना है तो उसे उस परमात्मा से जोड़ दें – – –

एक बार की बात है एक बहुत ही पुण्य व्यक्ति अपने परिवार सहित तीर्थ के लिए निकला.. कई कोस दूर जाने के बाद पूरे परिवार को प्यास लगने लगी , Continue Reading →

अनिद्रा [ Insomnia ] एक जीवन शैली है ! ~ ओशो

” अनिद्रा एक जीवन शैली है ! ” ~ ओशो ” अनिद्रा कोई बीमारी नहीं है। अनिद्रा एक जीवनशैली है। प्रकृति की ओर से मनुष्य को इस प्रकार बनाया गया Continue Reading →

नवीनतम विज्ञान की खोजें कहती हैं, कि बच्चे की नाल को तत्क्षण काटना सदा के लिए उसे कमजोर बना देना है।

*पहली सांस जिसने घबड़ाहट से, भय से, कंपन से ली हो उसमें जीवनभर भय और कंपन प्रविष्ट हो जाएगा। अब तुम जीना चाहो तो भी तुम स्वतंत्र नहीं; हस्तक्षेप है।तुम Continue Reading →

भारत की देसी गाय की नस्लें ……

ये हैं भारत की देसी गाय की नस्लें, जिनके बारे में आप शायद ही जानते होंगे अभी तक लोगों को गायों की साहीवाल, गिर, थारपारकर जैसी देसी नस्लों के बारे Continue Reading →

जब बाहर की सारी दौड़ व्यर्थ हो जाती है, तो अंतस में जाने का प्रश्न और विचार और जिज्ञासा खड़ी होती है।

🎆🎆साक्षी की साधना-ओशो(प्रवचन-12)🎆🎆 ****************** (ओशो को भोगवादी कहने वालों को इस पोस्ट से उचित समाधान मिलेगा ) पूछा है: सत्य के खोजने की आवश्यकता ही क्या है? साधना की जरूरत Continue Reading →

कब वो दिन आएगा कि तुम दूसरों की आँखों में देखना बन्द करोगे और अपनी तरफ़ देखना शुरू करोगे ?

जपान में एक फ़कीर था. एक गाँव में, एक सुन्दर युवा. था वो फ़कीर. सारा गाँव उसे श्रद्धा करता और आदर देता. लेकिन एक दिन सारी बात बदल गई. गाँव Continue Reading →

तुरंत उत्तर न देना जीवन का परम सूत्र – गुर्जिएफ़

🔴तुरंत उत्तर न देना जीवन का परम सूत्र । गुरजिएफ एक फकीर हुआ, यूनान में। उसने अपनी आत्म-कथा में लिखा कि मेरा पिता मृत्यु-शय्या पर था, उसने मुझे अपने पास Continue Reading →

सुसाइड की जरुरत नहीं, संन्यास लो !” – ओशो

“सुसाइड की जरुरत नहीं, संन्यास लो !” – ओशो एक शिष्य ने ओशो से कहा की वह जिंदगी से तंग आ कर आत्महत्या करना चाहता है, इस पर ओशो बोले Continue Reading →