Click III कैमरा नेगेटिव से फोटो बनाने का जुगाड़ ढूँढ़ा मैंने ……….. बी एस पाबला




old cam

पिछले दिनों बेहद ही अस्तव्यस्त अलमारी को कुछ ठीक कर लेने की असफल कोशिश में 35-40 साल पुराने क्लिक III कैमरा के नेगेटिव एक बार फिर निगाह में आये.

तीखी रौशनी में उलट पलट कर, आर पार देखते, उन क्षणों की यादों के समंदर में गोते लगाता मुस्कुराता रहा और एक ठंडी साँस भर वापस डब्बे में समेट दिए सारे नेगेटिव कि अब इनकी फोटो नहीं बन पाती वरना कई चित्र बना कर फ्रेम करवा लेता. फिर कितनी ही बातें याद आतीं चली गईं.

किशोरावस्था में ही मुझे कैमरा का शौक जाग उठा था. जब तक मेट्रिक पास नहीं किया मैंने, तब तक पिता जी ने इसे एक फालतू चीज बताते हुए कतई तवज्जो नहीं दी.

रायपुर जा कर मैंने माँ को बहलाया फुसलाया और फिर उनकी सिफारिश पर पिताजी पिघले और फिर मेरा पहला कैमरा था आग्फ़ा कंपनी का क्लिक III , जिसे खरीदा गया रायपुर की मालवीय रोड स्थित ‘ए अहमदजी भाई’ से. कीमत शायद थी 130 या 140 रूपये.

यह एक साधारण से लेंस वाला ऐसा कैमरा था जिसमें अधिक से अधिक 12 चित्र ही लिए जा सकते थे और नेगेटिव का आकार होता था 6 X 6 सेंटीमीटर का, लगभग ढाई गुना ढाई इंच. एक फोटो लेने के बाद अंदाज़न रोल को उँगलियों से घुमा कर ऐसी जगह लाया जाता जहाँ कोरे स्थान पर दूसरी फोटो का अक्स उभर सके. रोल घुमाना भूल गए तो एक के ऊपर दूसरी फोटो छप जानी है.click-iii-camera-bspabla

इसमें फ्लैश था नहीं, अलग से लगाया भी जाए तो बड़ी सी बैटरी से चमकने वाली फ्लैश के लिए ऐसा बल्ब होता था जो अपनी चकाचौंध रौशनी बिखेरने के साथ ही फ्यूज़ हो जाता. अगली फ्लैश के लिए नया बल्ब लगाया जाए.

नेगेटिव से फोटो बनाने के लिए व्यवसायिक स्टूडियो वाले जो कीमत लेते थे वह मुझे बहुत ज़्यादा लगी. नेगेटिव से फोटो बनाने की तकनीक बताने वाली छोटी सी किताब, जयराम टाकीज के सामने फुटपाथ से खरीदी 70 पैसे में.

फिर ए अहमदजी भाई से ही डेवलपर, हाइपो, 100 पेपर वाला डब्बा खरीदने दौड़ लगाई. कमरे में लाल बल्ब जला कर डार्क रूम बनाया गया. टेबल लैंप के नीचे ड्राइंग शीट का फ्रेम कैमरा और डेवलपिंगकाट, नेगेटिव और फोटो पेपर साथ साथ रख कुछ सेकेण्ड की रौशनी दी जाती.

उस फोटो पेपर को जब डेवलपर वाली ट्रे में हौले हौले थपथपाया हिलाया जाता तो धीरे धीरे उभरने वाली तस्वीर को देखते दिल की धडकने बढ़ जाती. हाइपो से बाहर निकाल सही तरीके से सुखाने के बाद ही खिंची गई तस्वीर की असल शक्ल सामने आती.

आलमारी में मिले दशकों पुराने उस क्लिक III कैमरा के हजारों नेगेटिव हाथ में लिए यादों से बाहर आ कर मैंने सोचा कि हालिया रंगीन 35 मिलीमीटर वाले नेगेटिव को तो डिजिटल फोटो में बदलने के लिए कई व्यवसायिक उपाय अभी भी हैं जो एक फोटो का 1 रुपया लेते हैं, मतलब 35 नेगेटिव वाले रोल के डिजिटल फोटो 35 रुपयों में बना कर सीडी में दे दिए जायेंगे,  लेकिन इन पुराने नेगेटिव की फोटो तो कोई नहीं बनाता.

कुछ वर्षों पहले तक कंप्यूटर से जोड़े जा सकने वाले ऐसे स्कैनर मिलते थे जो नेगेटिव से डिजिटल चित्र बनाने का भी साधन लिए रहते.कैमरा एक्सरे

सोचते सोचते ललक बढ़ती गई फोटो के लिए. इंटरनेट छाना गया लेकिन जो उपाय दिखे वह बहुत ही तिकड़मी थे. तब मैंने फेसबुक पर यह समस्या बताई और फिर डॉ अनिल कुमार ने जुगाड़ बताया “…सफ़ेद कागज़ पे नेगेटिव रख के स्कैनर में स्कैन कीजिये. फिर फोटोशोप या GIMP जैसे सॉफ्टवेर में डालके नेगेटिव का पॉजिटिव बना लीजिये…”

मामला जमा नहीं मुझे क्योंकि ऐसी असफल कोशिश कर चुका था दो वर्ष पहले भी. तब अनिल जी ने लिखा “… यह तरीका मैंने x ray और CT scan से आजमा के देखा था..” तभी मेरे मष्तिष्क में कौंधी डॉक्टरों के कमरे में एक्सरे देखे जाने वाले रौशनी वाले डब्बे की. जिसमें सामने एक्सरे की बड़ी सी फ़िल्म रख कर बारीकी से देखा जाता है उसे. इसी के साथ आया एक नए जुगाड़ का खाका.

कोशिश करने में क्या जाता है. झट से एक नेगेटिव निकाला. कंप्यूटर मॉनिटर के सामने ही फंसा दिया. सफ़ेद रौशनी चाहिए थी तो ब्राउज़र की खाली टैब खोल ली.

लेकिन नीचे का टास्क बार रोड़े अटका रहा था तो उसे ऑटो हाईड कर नीचे जाने दिया. अपना डिजिटल कैमरा लिया और उस सफ़ेद रौशनी के सामने फंसे नेगेटिव की फोटो कुछ इस तरह ली कि नेगेटिव की ही फोटो आये आसपास की सफेद पृष्टभूमि की नहीं.

कैमरा नेगटिव

 

एक दो बार कोशिश करने पर मनचाहा परिणाम मिल गया.

कैमरा की मेमोरी कार्ड से कंप्यूटर में लाई गई उस इमेज को फिर Microsoft Office Picture Manager से आसपास कांट-छांट कर सही आकार में ले आया. (Picture Manager, आम तौर पर हर विंडोज कंप्यूटर में मिल जाता है. जिसे चित्र पर माउस के दाहिने क्लिक से Open with कर पाया जा सकता है. नहीं है तो कंप्यूटर में डाउनलोड कर लीजिये)

 

negative-image-photo-bspabla

 

दिखने में भुतही सी ये तस्वीर तो अब यह एक सच्चा नेगेटिव दिखने लगी. इसे अब बनाना था फोटो!

इस नेगेटिव जैसी दिखती फोटो को मैंने खोला विंडोज में उपलब्ध Paint में. इसके बाद Ctrl के साथ A दबा कर या मेन्यु बार में Select > Select all कर फोटो में ही किसी स्थान पर सावधानी से माउस का राईट क्लिक कर सामने आए बॉक्स के निचले हिस्से में दिए Invert Color पर क्लिक किया.

वाह! सामने तो अच्छी खासी फोटो आ चुकी. अब उसे सहेजना, सेव ही तो करना है.

कैमरा यादों में

 

मस्त है ना! फोटो फ्रेम में लगाने लायक!! वैसे मैंने 36 नेगेटिव वाले रंगीन रोल वाले के साथ भी यह प्रयोग किया लेकिन मज़ा नहीं आया.

अब आप बताईये इससे आसान तरीका है कोई?

साभार © बी एस पाबला

http://www.bspabla.com/%E0%A4%95%E0%A5%88%E0%A4%AE%E0%A4%B0%E0%A4%BE/




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*